प्रकृति भली जग की जननी है

         (किशोरों के लिए गीत )



 प्रकृति भली, जग की जननी है 


सब प्राणी को देती जीवन 

यह रचती नदिया-पर्वत-वन,

भाँति -भाँति के अन्न-फूल-फल 

न्योछावर करती है हर पल,

  

सोच, दया करती कितनी है,

 प्रकृति भली, जग की जननी है



सुन्दरता  इसकी है न्यारी

    जल-थल-नभ में बिखरी सारी ,

चंदा-तारे-मछली-चिड़ियाँ

  फूलों की हँसती पंखुड़ियाँ ,

  

  सुन्दर सब धरती-अवनी है ,

   प्रकृति भली, जग की जननी है



 माँ-सी नेह लुटाती है यह 

   हम सब को दुलराती है यह, 

 कभी नहीं इस को दुःख देंगे

 हम सब इन का मान करेंगे,

       

  यही वत्सला माँ अपनी है, 

  प्रकृति भली, जग की जननी है 


  -महेन्द्र वर्मा 




7 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल बुधवार (01-12-2021) को चर्चा मंच          "दम है तो चर्चा करा के देखो"    (चर्चा अंक-4265)     पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य यह है कि आप उपरोक्त लिंक पर पधार करचर्चा मंच के अंक का अवलोकन करे और अपनी मूल्यवान प्रतिक्रिया से अवगत करायें।
-- 
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'   

Nitish Tiwary said...

बहुत सुंदर कविता।

Manisha Goswami said...

बहुत ही सुंदर रचना

SANDEEP KUMAR SHARMA said...

सुंदर रचना

अनीता सैनी said...

बहुत बहुत ही सुंदर सराहनीय सृजन।
सादर

rakesh said...

बहुत बहुत ही सुंदर सराहनीय सृजन। Om Namah Shivay Images

सी. बी. मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

बहुत सुन्‍दर