Apr 29, 2012

बस इतनी सी बात



जल से काया शुद्ध हो, सत्य करे मन शुद्ध,
ज्ञान शुद्ध हो तर्क से, कहते सभी प्रबुद्ध।

धरती मेरा गाँव है, मानव मेरा मीत,
सारा जग परिवार है, गाएँ सब मिल गीत।


ज्ञानी होते हैं सदा, शांत-धीर-गंभीर,
जहाँ नदी में गहनता, जल अति थिर अरु धीर।
 

जीवन क्या है जानिए, ना शह है ना मात,
मरण टले कुछ देर तक, बस इतनी सी बात।

कभी-कभी अविवेक से, हो जाता अन्याय,
अंतर की आवाज से, होता सच्चा न्याय।

तीन व्यक्तियों का सदा, करिए नित सम्मान,
मात-पिता-गुरु पूज्य हैं, सब से बड़े महान।


यों समझें अज्ञान को, जैसे मन की रात,
जिसमें न तो चाँद है, न तारे मुसकात।

                           
                                                                         -महेन्द्र वर्मा

39 comments:

Ramakant Singh said...

कभी-कभी अविवेक से, हो जाता अन्याय,
अंतर की आवाज से, होता सच्चा न्याय।
all lines are vrry beautiful
and very very near to heart
and life ,we should follow these
I LOVE IT .PLEASE MAIL THESE
FOR COLLECTION.

vandana said...

जीवन क्या है जानिए, ना शह है ना मात,
मरण टले कुछ देर तक, बस इतनी सी बात।

यों समझें अज्ञान को, जैसे मन की रात,
जिसमें न तो चाँद है, न तारे मुसकात।

bahut sundar dohe

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

धरती मेरा गाँव है, मानव मेरा मीत,
सारा जग परिवार है, गाएँ सब मिल गीत।
Bahut Sunder

संजय @ मो सम कौन ? said...

अंतर की आवाज सुनने वाले को कुछ और भाता ही नहीं है फिर|

संजय @ मो सम कौन ? said...
This comment has been removed by the author.
मनोज कुमार said...

तीन व्यक्तियों का सदा, करिए नित सम्मान,
मात-पिता-गुरु पूज्य हैं, सब से बड़े महान।
बिना इनके प्रति सम्मान के जीवन व्यर्थ है। ये ही जिनहोंने जीवन को सही दिशा दी।

रश्मि प्रभा... said...

जीवन क्या है जानिए, ना शह है ना मात,
मरण टले कुछ देर तक, बस इतनी सी बात।... इसे खींचकर लम्बा क्यूँ बनाना

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) said...

दोहे सारे आपके , ज्ञान रतन भंडार
पाठकगण के वास्ते, हैं अनुपम उपहार
हैं अनुपम उपहार,नीति और रीति सिखाते
संस्कार, सद्भाव और आध्यात्म बताते
अंतर की आवाज जगे,मन सत्य ही मोहे
ज्ञान रतन भंडार, आपके सारे दोहे.

Rakesh Kumar said...

सारगर्भित बातें बहुत सुन्दर रूप
से प्रस्तुत की हैं आपने.दिल को
सकून मिलता है पढकर.अनुपम प्रस्तुति
के लिए आभार.


समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

बहुत सुन्दर वाह!
आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 30-04-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-865 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

बहुत सुन्दर वाह!
आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 30-04-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-865 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

सतीश सक्सेना said...

तीन व्यक्तियों का सदा, करिए नित सम्मान,
मात-पिता-गुरु पूज्य हैं, सब से बड़े महान।

सच है ...सच रहेगा ..
शुभकामनायें !

expression said...

जीवन क्या है जानिए, ना शह है ना मात,
मरण टले कुछ देर तक, बस इतनी सी बात।

वाह..............

बहुत बहुत सुंदर
सादर.

Kailash Sharma said...

कभी-कभी अविवेक से, हो जाता अन्याय,
अंतर की आवाज से, होता सच्चा न्याय।

....बहुत खूब! सार्थक संदेश देते बहुत सुंदर दोहे...

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

ज्ञानी होते हैं सदा, शांत-धीर-गंभीर,
जहाँ नदी में गहनता, जल अति थिर अरु धीर।

जीवन क्या है जानिए, ना शह है ना मात,
मरण टले कुछ देर तक, बस इतनी सी बात।

सारे दोहे बहुत सुंदर ....

Anupama Tripathi said...

कभी-कभी अविवेक से, हो जाता अन्याय,
अंतर की आवाज से, होता सच्चा न्याय।

सुंदर ज्ञानवर्धक दोहे ....
आभार...

महेन्द्र मिश्र said...

तीन व्यक्तियों का सदा, करिए नित सम्मान
मात-पिता-गुरु पूज्य हैं, सब से बड़े महान


बहुत सुन्दर भाव ... आभार

दीपिका रानी said...

जीवन का सार है आपकी रचना में..

M VERMA said...

धरती मेरा गाँव है, मानव मेरा मीत,
सारा जग परिवार है, गाएँ सब मिल गीत।

सार्थक सन्देश ...

ZEAL said...

एक से बढ़कर एक दोहों द्वारा जीवन दर्शन कराती इस प्रस्तुति के लिए बहुत-बहुत आभार महेंद्र जी।

lokendra singh rajput said...

तीन व्यक्तियों का सदा, करिए नित सम्मान,
मात-पिता-गुरु पूज्य हैं, सब से बड़े महान।....
महेंद्र जी, यह आज के समय में जरुरी अपील अपने की है.... वर्तमान पीढ़ी कब उनका निर्माण करने वालों को ठोकर मर दे कह नहीं सकते... संस्कारों की बड़ी कमी आ गयी है समाज में...

प्रतिभा सक्सेना said...

' ज्ञानी होते हैं सदा, शांत-धीर-गंभीर,'
- ज्ञान का गहन गांभीर्य है आपकी उक्तियों में !

Udan Tashtari said...

वाह, बहुत बढ़िया दोहे!!

udaya veer singh said...

....बहुत खूब! सार्थक संदेश देते बहुत सुंदर दोहे...

रजनीश तिवारी said...

बहुत ही सुंदर, पठनीय, संकलनीय और अनुकरणीय प्रस्तुति ।

veerubhai said...

यों समझें अज्ञान को, जैसे मन की रात,
जिसमें न तो चाँद है, न तारे मुसकात।
बहुत सौदेश्य शैर हैं , ग़ज़ल के सारे के , सारे सार्थक इतने, जितने आसमान में तारे .

कृपया यहाँ भी पधारें
सोमवार, 30 अप्रैल 2012

सावधान !आगे ख़तरा है

सावधान !आगे ख़तरा है

http://veerubhai1947.blogspot.in/
रविवार, 29 अप्रैल 2012

परीक्षा से पहले तमाम रात जागकर पढने का मतलब

http://veerubhai1947.blogspot.in/
रविवार, 29 अप्रैल 2012

महिलाओं में यौनानद शिखर की और ले जाने वाला G-spot मिला

http://veerubhai1947.blogspot.in/
शोध की खिड़की प्रत्यारोपित अंगों का पुनर चक्रण

http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/शुक्रिया .
आरोग्य की खिड़की

http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/

Pallavi said...

वाह क्या बात है सर, बहुत खूब...हर एक पंक्ति लजावाब है। प्रभावशाली रचना

रचना दीक्षित said...

कभी-कभी अविवेक से, हो जाता अन्याय,
अंतर की आवाज से, होता सच्चा न्याय।

नीति निर्देशक दोहे. बहुत सुंदर प्रस्तुति.

Reena Maurya said...

bahut khub lajavab aur behtarin rachana....

रंजना said...

एक से बढ़कर एक मनके काढ अतिसुन्दर रचना सजाया आपने..

धारण करने योग्य अनुसरणीय सीख...

यादें....ashok saluja . said...

खुशनुमा जीवन के अनमोल नुस्खे ......
आभार!

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

aapke blog ke naam ke anuroop he hoti hain aapki shandaar rachnayein..sadar badhayee aaur amantran ke sath

ashish said...

नीति के दोहे सर्वथा उपयुक्त और विचारणीय . सुँदर .

Kailash Sharma said...

बहुत सार्थक और सुन्दर दोहे...आभार

Maheshwari kaneri said...

bahut sundar abhivyakti..

Sawai Singh Rajpurohit said...

बहुत बढ़िया प्रस्तुति.

Bharat Bhushan said...

जीवन क्या है जानिए, ना शह है ना मात,
मरण टले कुछ देर तक, बस इतनी सी बात।

कहा जाता है कि मृत्यु अटल है. कैसे अटल है आपके इस दोहे ने उसे कह दिया है. यह वह टलना है जो वास्तव में अटल है. बहुत सुंदर दोहे देने के लिए आभार महेंद्र जी.

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

सभी दोहे बीस हैं सर....
सादर.

secondhand bicycles in uk said...

Bicycle shops in north London
Excellent Working Dear Friend Nice Information Share all over the world.God Bless You.
trendy cycle shops london
london olympic bicycle company