Sep 26, 2010

कबीर के दोहे

संत कबीर की रचनाएं आज भी उतनी ही प्रासंगिक हैं जितनी वे अपने समय में थीं। उनकी कालजयी रचनाएं आज भी मानव जाति के लिए उपयोगी और अनुकरणीय हैं। प्रस्तुत है संत कबीर के कुछ दोहे -

साधु संतोषी सर्वदा, निर्मल जिनके बैन।
तिनके दरसन परसतें, जिय उपजे सुख चैन ।।

शीलवंत सबसों बड़ा, सब रतनों की खानि।
तीन लोक की संपदा, रही शील में आनि।।

ज्ञानी ध्यानी संयमी, दाता सूर अनेक।
जपिया तपिया बहुत है, शीलवंत कोइ एक।।

साधू मेरे सब बडे़, अपनी अपनी ठौर।
शब्द विवेकी पारखी, वे माथे के मौर।।

दीन गरीबी बंदगी, सब सों आदर भाव।
कहै कबीर तेही बड़ा, जामे बड़ा सुभाव।।

मूरख को समुझावता, ज्ञान गांठि का जाय।
कोयला होय न उजला, सौ मन साबुन लाय।।

संगति सो सुख उपजे, कुसंगति सो दुख जोय।
कह कबीर तहं जाइए, साधु संग जंह होय।।

12 comments:

M VERMA said...

कबीर तभी तो 'गागर में सागर' भरने वाले कहलाते हैं

arun c roy said...

कबीर के दोहे पढवाने के लिए धन्यवाद.. दोहों का चयन बहुत अच्छा है.. एक रेडिओ सीरिअल के लिए जिंगले लिखा था मैंने..
"ना साधू है ना संत है
ना फ़कीर है
ये कौन कबीर है ... ये कौन कबीर है.. "

mahendra verma said...

आदरणीय वर्मा जी और रॉय जी , उत्साहवर्धन के लिए आभार।

ZEAL said...

ज्ञानी ध्यानी संयमी, दाता सूर अनेक।
जपिया तपिया बहुत है, शीलवंत कोइ एक।।

कबीर के दोहे पढवाने के लिए धन्यवाद

.

हरकीरत ' हीर' said...

मूरख को समुझावता, ज्ञान गांठि का जाय।
कोयला होय न उजला, सौ मन साबुन लाय।।

बहुत खूब ......!!

mahendra verma said...

आदरणीया ज़ील जी और हीर जी, मेरे ब्लाग में पधारने के लिए आभार

संजय भास्कर said...

कबीर के दोहे पढवाने के लिए धन्यवाद

संजय भास्कर said...

ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

Vijai Mathur said...

Mahendraji,
Bilkul sahi kah rahe hain aap ki KABIR ki prasangikta aaj bhee utnee hi hai jitni unke samay me thee.Aaj ke tamam jhagron ka niptara tak Kabir ki seekhon per amal karne se ho sakta hai .Atah aapka aalekh samsamyik hai.

Anonymous said...

kabir sucks

Anonymous said...

hiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii

Anonymous said...

M VERMA said...
कबीर तभी तो 'गागर में सागर' भरने वाले कहलाते हैं
September 26, 2010 9:32 PM
arun c roy said...
कबीर के दोहे पढवाने के लिए धन्यवाद.. दोहों का चयन बहुत अच्छा है.. एक रेडिओ सीरिअल के लिए जिंगले लिखा था मैंने..
"ना साधू है ना संत है
ना फ़कीर है
ये कौन कबीर है ... ये कौन कबीर है.. "
September 27, 2010 8:42 PM
mahendra verma said...
आदरणीय वर्मा जी और रॉय जी , उत्साहवर्धन के लिए आभार।
September 27, 2010 9:00 PM
ZEAL said...
ज्ञानी ध्यानी संयमी, दाता सूर अनेक।
जपिया तपिया बहुत है, शीलवंत कोइ एक।।

कबीर के दोहे पढवाने के लिए धन्यवाद

.
September 27, 2010 10:08 PM
हरकीरत ' हीर' said...
मूरख को समुझावता, ज्ञान गांठि का जाय।
कोयला होय न उजला, सौ मन साबुन लाय।।

बहुत खूब ......!!
September 27, 2010 10:52 PM
mahendra verma said...
आदरणीया ज़ील जी और हीर जी, मेरे ब्लाग में पधारने के लिए आभार
September 28, 2010 5:20 PM
संजय भास्कर said...
कबीर के दोहे पढवाने के लिए धन्यवाद
September 28, 2010 7:02 PM
संजय भास्कर said...
ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.
September 28, 2010 7:03 PM
Vijai Mathur said...
Mahendraji,
Bilkul sahi kah rahe hain aap ki KABIR ki prasangikta aaj bhee utnee hi hai jitni unke samay me thee.Aaj ke tamam jhagron ka niptara tak Kabir ki seekhon per amal karne se ho sakta hai .Atah aapka aalekh samsamyik hai.
October 16, 2010 10:36 AM
Anonymous said...
kabir sucks
June 29, 2011 4:02 PM
Anonymous said...
hiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii
August 24, 2011 12:09 AM