Jan 1, 2012

अंजुरी भर सुख



तुम
जब भी आते हो
मुस्कराते हुए आते हो,
कौन जान सका है
इस मुस्कान के पीछे छिपी
कुटिलता को ?
 

हर बार तुम
दे जाते हो
करोड़ों आंखों को
दरिया भर आंसू
करोड़ों हृदय को
सागर भर संत्रास
और कर जाते हो
समय की छाती पर
अनगिनत घाव !
 

क्या इस बार
तुम कुछ बेहतर नहीं कर सकते ?
जिन्हें जरूरत  है उन्हें
क्या तुम
अंजुरी भर सुख नहीं दे सकते ?
बोलो, नववर्ष ......!

                                         -महेन्द्र वर्मा

48 comments:

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

वर्मा साहब!
परमात्मा यह मनोकामना पूरी करे, क्योंकि यह जन जन की मनोकामना है!! आपको भी परिवार सहित सुख, शांति, स्वास्थ्य और समृद्धि प्राप्त हो.. नव वर्ष मंगलमय हो!!

Sunil Kumar said...

हमारी ओर से भी नव वर्ष की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें स्वीकार करें

शेखचिल्ली का बाप said...

Well done .

सभी पाठकों और संरक्षकों को नववर्ष की मंगलकामनायें!

भाषा और प्रेज़ेन्टेशन सभी कुछ दिलकश !!

http://shekhchillykabaap.blogspot.com/

Rahul Singh said...

नई आशाओं का नया साल.

दर्शन कौर said...

bahut sunder vichar haaen ...
Happy new year ...

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को नववर्ष की शुभकामनायें
जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

वन्दना said...

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
अवगत कराइयेगा ।

http://tetalaa.blogspot.com/

Kunwar Kusumesh said...

बहुत सटीक लिखा इस विषय पर .
नए साल की हार्दिक शुभकामनायें.

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

आप तथा आपके परिवार के लिए नववर्ष की हार्दिक मंगल कामनाएं
आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 02-01-2012 को सोमवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

रश्मि प्रभा... said...

नए वर्ष को दोष न दें .... सत्य कटु ही सही , जो कारण है हम उसे कहें ...
नया वर्ष प्रभु के आशीर्वचनों से परिपूर्ण हो ...

Kailash Sharma said...

बहुत सुन्दर...आप को सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

Sanjeeva Tiwari said...

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें..

प्रेम सरोवर said...

प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । नव वर्ष की अशेष शुभकामनाएं । धन्यवाद ।

गिरिजा कुलश्रेष्ठ said...

वर्माजी नववर्ष आपको हर तरह से सुखमय हो

गिरिजा कुलश्रेष्ठ said...

वर्माजी नववर्ष आपको हर तरह से सुखमय हो

Amrita Tanmay said...

गहरी बात है इस रचना में..शुभकामनाएं .

Amit Chandra said...

शायद इस बार कुछ संभव हो सके. भगवान सब की मनोकामनाओ को पूरा करें.

सादर.

संजय भास्कर said...

नव वर्ष पर सार्थक रचना
नववर्ष की आपको बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ.

शुभकामनओं के साथ
संजय भास्कर

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति|

आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ|

पद्म सिंह said...

क्या इस बार
तुम कुछ बेहतर नहीं कर सकते ?
जिन्हें जरूरत है उन्हें
क्या तुम
अंजुरी भर सुख नहीं दे सकते ?
बोलो, नववर्ष ......!

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति... आपको नववर्ष की हार्दिक मंगल कामनाएँ

अनुपमा पाठक said...

यह सुन्दर कामना पूर्ण हो...
सुन रहे हो न नववर्ष!
अनंत शुभकामनाएं!
सादर!

मनोज कुमार said...

नव वर्ष से यह प्रश्न हम भी करना चाहते हैं।
नव वर्ष पर आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनायें।

रजनी मल्होत्रा नैय्यर said...

नव वर्ष की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें ..

अच्छी प्रस्तुति

ऋता शेखर 'मधु' said...

क्या इस बार
तुम कुछ बेहतर नहीं कर सकते ?
जिन्हें जरूरत है उन्हें
क्या तुम
अंजुरी भर सुख नहीं दे सकते ?
बोलो, नववर्ष ......!

बहुत ही सुन्दर!नव वर्ष की शुभकामनाएँ!!!

मनीष सिंह निराला said...

आपको नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

sundar prastuti..
नव वर्ष मंगलमय हो !
बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ....

vidya said...

बहुत प्यारी कामना...
सुन्दर अभिव्यक्ति..
नववर्ष की शुभकामनाएँ.
सादर.

दिगम्बर नासवा said...

वाह ... क्या प्रश्न खड़ा किया है ... बहुत खूब ..
आपको नव वर्ष मंगल मय हो ...

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

एक सर्व कालिक अनुत्तरित प्रश्न....
सुन्दर कविता सर, सादर बधाई और नूतन वर्ष की सादर शुभकामनाएं

Rajesh Kumari said...

bahut khoob umda prashn jiske uttar ki sabhi ko prateeksha hai.dekhte hain yeh nav varsh apni jholi me is bar kya laya hai.bahut umda likha hai aapne.nav varsh ki badhaai sweekaren.

veerubhai said...

अपने वक्त से संवाद करती गहरी रचना .जो मर गए रैन बसेरों के बाहर ठंड से पूछो उनसे नया साल कैसा होता है कहाँ होता है .

dineshgautam said...

नए वर्ष की शुरूआत आपने बहुत अच्छी रचना से की है। नव वर्ष पर मेरी अशेष शुभकामनाएँ...

Naveen Mani Tripathi said...

Varma ji apki rachana bahut hi sundar hai badhai ....aur abhar bhi .

Naveen Mani Tripathi said...

abhar varma ji ...nav varsh pr ak khoob soorat suruat di ... badhi.

ZEAL said...

बहुत कठिन प्रश्न उपस्थित किया`है आपने नव वर्ष से ! उम्मीद है इस बार कुछ सुन्दर और साथक मिलेगा इस वर्ष में ! आपको एवं आपके परिवार को नए वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं !

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) said...

नन्हीं सी आशा .....बहुत ही सहज किंतु यक्ष-प्रश्न सी जटिल,श्रेष्ठ रचना...

Reena Maurya said...

navvarsh par sundar abhivykti....
navvardh ki shubhkamnaye

सम्वेदना के स्वर said...

पके चिर परिचित अंदाज़ में यह कविता एक सोच को जन्म देती है!! काश नए साल में एक अंजुरी सुख नसीब हो तो लगे कि कुछ नया है!! शुभकामनाएं नए साल की!!

Urmi said...

आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को नये साल की ढेर सारी शुभकामनायें !

प्रेम सरोवर said...

आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

सराहनीय प्रस्तुति

जीवन के विभिन्न सरोकारों से जुड़ा नया ब्लॉग 'बेसुरम' और उसकी प्रथम पोस्ट 'दलितों की बारी कब आएगी राहुल ...' आपके स्वागत के लिए उत्सुक है। कृपा पूर्वक पधार कर उत्साह-वर्द्धन करें

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

सराहनीय प्रस्तुति

जीवन के विभिन्न सरोकारों से जुड़ा नया ब्लॉग 'बेसुरम' और उसकी प्रथम पोस्ट 'दलितों की बारी कब आएगी राहुल ...' आपके स्वागत के लिए उत्सुक है। कृपा पूर्वक पधार कर उत्साह-वर्द्धन करें

shashi purwar said...

namaskar verma ji

anjuri bhar shukh ...bahut umda .

nayi asha .naya vishvash , sunder vichar ......aaya naya saal ....badhai .
happy new year .

सदा said...

वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

Urmi said...

बहुत बढ़िया लगा ! ख़ूबसूरत रचना ! शानदार प्रस्तुती!

chirag said...

bahut khoob sir
really nice poem
happy new year
mere blog par bhi aaiyega
umeed kara hun aapko pasand aayega
http://iamhereonlyforu.blogspot.com/

dheerendra said...

महेंद्र जी!!!!बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर रचना.....
welcome to new post--जिन्दगीं--

Amrita Tanmay said...

नूतन अंदाज़