ग्रेगोरियन कैलेण्डर

                                                                                                                              
 तिथि, माह और वर्ष की गणना के लिए ईस्वी सन् वाले कैलेण्डर का प्रयोग आज पूरे विश्व में हो रहा है। यह कैलेण्डर आज से 2700 वर्श पूर्व प्रचलित रोमन कैलेण्डर का ही क्रमषः संषोधित रूप है। 46 ई. पूर्व में इसका नाम जूलियन कैलेण्डर हुआ और 1752 ई. से इसे ग्रेगोरियन कैलेण्डर कहा जाने लगा। आज यह कैलेण्डर इसी नाम से प्रसिद्ध है । रोमन कैलेण्डर का ग्रेगोरियन कैलेण्डर में परिवर्तित होने तक की कहानी बहुत रोचक है ।
रोमन कैलेण्डर की शुरुआत रोम नगर की स्थापना करने वाले पौराणिक राजा रोम्युलस के पंचांग से होती है। वर्ष की गणना रोम नगर की स्थापना वर्ष 753 ई. पूर्व से की जाती थी। इसे संक्षेप में ए.यू.सी. अर्थात एन्नो अरबिस कांडिटाइ कहा जाता था, जिसका शाब्दिक अर्थ ‘शहर की स्थापना के वर्ष से‘ हैं।

रोम्युलस के इस कैलेण्डर में वर्ष में दस महीने होते थे। इन महीनों में प्रथम चार का नाम रोमन देवताओं पर आधारित था, शेष छह महीनों के नाम क्रम संख्यांक पर आधारित थे। दस महीनों के नाम क्रमशः इस प्रकार थे- मार्टियुस, एप्रिलिस, मेयुस, जूनियुस, क्विंटिलिस, सेक्स्टिलिस, सेप्टेम्बर, आक्टोबर, नोवेम्बर और डिसेम्बर। मार्टियुस जिसे अब मार्च कहा जाता है, वर्ष का पहला महीना था। शेष छह महीनों के नामों का अर्थ क्रमशः पांचवां, छठवां, सातवां, आठवां, नवां और दसवां था । नए वर्ष का आरंभ मार्टियुस अर्थात मार्च की 25 तारीख को होता था क्योंकि इसी दिन रोम के न्यायाधीश शपथ ग्रहण करते थे। इस कैलेण्डर में तब जनवरी और फरवरी माह नहीं थे।

लगभग 700 ई. पूर्व (रोमन संवत् के अनुसार 53 ए.यू.सी.) रोम के द्वितीय नरेश न्यूमा पाम्पलियस ने 10 महीने वाले कैलेण्डर को 12 महीने वाले कैलेण्डर में परिवर्तित कर दिया । कैलेण्डर में दो नए महीने - जेन्युअरी और फेब्रुअरी - क्रमशः ग्यारहवें और बारहवें महीने के रूप में जोड गए। रोमन देवता जेनुअस के नाम पर जेन्युअरी महीने का नाम रखा गया । फेब्रुअरी  लेटिन शब्द फेब्रुअम से बना है जिसका अर्थ है-शुद्धिकरण । प्राचीन रोम में ‘शुद्धिकरण’ एक त्योहार था जिसे वर्ष की अंतिम पूर्णिमा को मनाया जाता था । यह कैलेण्डर 355 दिनों के चांद्र वर्ष अर्थात 12 पूर्णिमाओं पर आधारित था इसलिए इसमें दो नए महीने जोड़े गए। इसमें 7 महीने 29 दिनों के, 4 महीने 31 दिनों के और फेब्रुअरी महीना 28 दिनों का होता था।  इस कैलेण्डर का उपयोग रोमवासी 45 ई. पूर्व तक करते रहे।

सन् 46 ई. पूर्व में रोमन सम्राट जूलियस सीज़र ने अनुभव किया कि त्योहार और मौसम में अंतर आने लगा है। इसका कारण यह था कि प्रचलित कैलेण्डर चांद्रवर्ष पर आधारित था जबकि ऋतुएं सौर वर्ष पर आधारित होती हैं। जूलियस सीज़र ने अपने ज्योतिषी सोसिजेनस की सलाह पर 355 दिन के वर्ष में 10 दिन और जोड़कर वर्ष की अवधि 365 दिन 6 घंटे निर्धारित किया। वर्ष की अवधि में जो छह घंटे अतिरिक्त थे वे चार वर्षों में कुल 24 घंटे अर्थात एक दिन के बराबर हो जाते थे। अतः सीज़र ने प्रत्येक चौथे वर्ष का मान 366 दिन रखे जाने का नियम बनाया और इसे लीप ईयर का नाम दिया। लीप ईयर के इस एक अतिरिक्त दिन को अंतिम महीने अर्थात फेब्रुअरी में जोड़ दिया जाता था। जूलियस सीज़र ने क्विंटिलिस नामक पांचवे माह का नाम बदलकर जुलाई कर दिया क्योंकि उसका जन्म इसी माह में हुआ था।

जूलियस सीज़र द्वारा संशोधित रोमन कैलेण्डर का नाम 46 ई. पूर्व से जूलियन कैलेण्डर हो गया। इसके 2 वर्ष पश्चात सीज़र की हत्या कर दी गई। आगस्टस रोम का नया सम्राट बना। आगस्टस ने सेक्स्टिलिस महीने में ही युद्धों में सबसे अधिक विजय प्राप्त की थी इसलिए उसने इस महीने का नाम बदलकर अपने नाम पर आगस्ट कर दिया।

जूलियन कैलेण्डर अब प्रचलन में आ चुका था। किंतु कैलेण्डर बनाने वाले पुरोहित लीप ईयर संबंधी व्यवस्था को ठीक से समझ नहीं सके । चौथा वर्ष गिनते समय वे दोनों लीप ईयर को शामिल कर लेते थे। फलस्वरूप प्रत्येक तीन वर्ष में फेब्रुअरी माह में एक अतिरिक्त दिन जोड़ा जाने लगा। इस गड़बड़ी का पता 50 साल बाद लगा और तब कैलेण्डर को पुनः संशोधित किया गया। तब तक ईसा मसीह का जन्म हो चुका था किंतु ईस्वी सन् की शुरुआत नहीं हुई थी। जूलियन कैलेण्डर के साथ रोमन संवत ए.यू.सी. का ही प्रयोग होता था। ईस्वी सन् की शुरुआत ईसा के जन्म के 532 वर्ष बाद सीथिया के शासक डाइनीसियस एक्लिगुस ने की थी। ईसाई समुदाय में ईस्वी सन् के साथ जूलियन कैलेण्डर का प्रयोग रोमन शासक शार्लोमान की मृत्यु के दो वर्ष पश्चात सन् 816 ईस्वी से ही हो सका।

जूलियन कैलेण्डर रोमन साम्राज्य में 1500 वर्षों तक अच्छे ढंग से चलता रहा। अपने पूर्ववर्ती कैलेण्डरों से यह अधिक सही था फिर भी पूरी तरह से शुद्ध नहीं था । गणितज्ञ जब सूक्ष्म गणना करने लगे तो उन्होंने पाया कि जूलियन कैलेण्डर का वर्षमान सौर वर्ष से 0.0078 दिन या लगभग 11 मिनट अधिक था। बाद के 1500 वर्षों में यह अधिकता बढ़कर पूरे 10 दिनों की हो चुकी थी।

1582 ई. में रोम के पोप ग्रेगोरी तेरहवें ने कैलेण्डर के इस अंतर को पहचाना और इसे सुधारने का निश्चय किया। उसने 4 अक्टूबर 1582 ई. को यह व्यवस्था की कि दस अतिरिक्त दिनों को छोड़कर अगले दिन 5 अक्टूबर की बजाय 15 अक्टूबर की तारीख होगी, अर्थात 5 अक्टूबर से 14 अक्टूबर तक की तिथि कैलेण्डर से विलोपित कर दी गई। भविष्य में कैलेण्डर वर्ष और सौर वर्ष में अंतर न हो, इसके लिए ग्रेगोरी ने यह नियम बनाया कि प्रत्येक 400 वर्षों में एक बार लीप वर्ष में एक अतिरिक्त दिन न जोड़ा जाए। सुविधा के लिए यह निर्धारित किया गया कि शताब्दी वर्ष यदि 400 से विभाज्य है तभी वह लीप ईयर माना जाएगा। इसीलिए सन् 1600 और 2000 लीप ईयर थे किंतु सन् 1700, 1800 और 1900 लीप ईयर नहीं थे, भले ही ये 4 से विभाज्य हैं।

ग्रेगोरी ने जूलियन कैलेण्डर में एक और महत्वपूर्ण संशोधन यह किया कि नए वर्ष का आरंभ 25 मार्च की बजाय 1 जनवरी से कर दिया। इस तरह जनवरी माह जो जूलियन कैलेण्डर में 11वां महीना था, पहला महीना और फरवरी दूसरा महीना बन गया। शेष महीनों का क्रम वही रहा किंतु क्रमांक बदल गए । संख्यासूचक महीने सेप्टेम्बर, अक्टोबर, नोवेम्बर और डिसेम्बर क्रमशः सातवें, आठवें, नवें और दसवें के स्थान पर अब क्रमशः नवें, दसवें, ग्यारहवें और बारहवें महीने बन गए । ग्रेगोरी ने महीनों के दिनों की संख्या को भी नए रूप में निर्धारित किया ।

ग्रेगोरी के द्वारा किए गए इन संशोधनों के पश्चात जूलियन कैलेण्डर को ग्रेगोरियन कैलेण्डर कहा जाने लगा । उक्त व्यापक परिवर्तनों के कारण 16 वीं शताब्दी के अंतिम दशकों में तिथि को लेकर प्रायः भ्रम की स्थिति उत्पन्न हो जाती थी । इस भ्रम को दूर करने के लिए 4 अक्टूबर, 1582  की किसी तारीख को लिखने के लिए ओ.एस. यानी ओल्ड स्टाइल और उसके बाद की तारीख के साथ एन.एस. यानी न्यू स्टाइल लिखा जाता था । आज भी किताबों में 4 अक्टूबर, 1582 के पहले की तिथियां जूलियन कैलेण्डर के अनुसार और उसके बाद की तिथियां ग्रेगोरियन कैलेण्डर के अनुसार लिखी होती हैं ।

सन् 1582 में पोप ग्रेगरी द्वारा संशोधित कैलेण्डर को रोमन कैथोलिक देशों ने तुरंत अपना लिया था किंतु प्रोटेस्टेंट, ग्रीक कैथोलिक, सात्यवादी तथा पूर्वी देशों ने इसे तुरंत लागू नहीं किया। इटली, डेनमार्क और हालैंड ने ग्रेगोरियन कैलेण्डर को उसी वर्ष अपना लिया। लेकिन शेष देशों ने बहुत बाद में, अलग-अलग वर्षों में स्वीकार किया ।

ग्रेट ब्रिटेन ने ग्रेगोरियन कैण्डर को उसके प्रवर्तन के 170 वर्षों के पश्चात अर्थात सन् 1752 में अपनाया । लेकिन तब तक ब्रिटेन में प्रचलित जूलियन कैलेण्डर 10 की बजाय 11 दिन आगे बढ़ चुका था । इसलिए जब ग्रेट ब्रिटेन ने 2 सितंबर, 1752 को इसे अपनाया तो कैलेण्डर में पूरे 11 दिन कम करने पड़े । जूलियन कैलेण्डर के अनुसार 2 सितंबर 1752 की तिथि के पश्चात अगले दिन की तारीख ग्रेगोरियन कैलेण्डर के अनुसार 14 सितंबर घोषित की गई । इस के लिए ब्रिटेन को संसद में बाकायदा ‘न्यू स्टाइल कैलेण्डर एक्ट’ नामक विधेयक पारित करना पड़ा । जनता पर इस का व्यापक असा पड़ा । ब्रिटेन के इस कदम पर उस समय दंगे भी हुए । लोगों के मन में इस बात को लेकर विरोध और आक्रोश था कि सरकार ने उनके जीवन के 11 दिन छीन लिए । वे सड़कों पर नारे लगाते थे- ‘‘हमारे 11 दिन हमें वापस करो ।’’ बहरहाल ब्रिटेन के सभी उपनिवेशों में भी नया कैलेण्डर 1752 में लागू हो गया था ।

जर्मनी और स्विटज़रलैंड ने 1759 ई. में, आयरलैंड ने 1839 ई. में और थाईलैंड ने सबसे बाद में, सन् 1941 में इस नए कैलेण्डर को अपने देश में लागू किया। तत्कालीन रूसी सरकार ने सन् 1917 में ग्रेगोरियन कैलेण्डर को जब अपने देश में लागू किया तो उसे 14 दिन कम करने पड़े । रूस की 1917 की बोल्शिविक क्रांति को महान अक्टूबर क्रांति कहा जाता है, वास्तव में यह क्रांति ग्रेगोरियन कैलेण्डर के अनुसार 7 नवंबर को हुई थी ।
कैलेण्डर की यह रोचक कहानी अधूरी ही रहेगी यदि हम इस बात की चर्चा न करें कि टैक्स निर्धारण के लिए वर्ष की गणना 1 अप्रेल से क्यों की जाती है, 1 जनवरी से क्यों नहीं ।

मध्ययुग में यूरोप के अधिकांश  देशों में वर्ष का आरंभ 25 मार्च को होता था इसलिए अन्य देशों की तरह ब्रिटेन में भी टैक्स की गणना 25 मार्च से की जाती थी । एंग्लो सैक्सन इंग्लैंड में क्रिसमस के दिन को नए वर्ष का प्रारंभ माना जाता था । वहां के राजा विलियम प्रथम ने जूलियन कैलेण्डर का अनुसरण करते हुए वर्ष का प्रारंभ 1 जनवरी से कर दिया था लेकिन टैक्स की गणना 25 मार्च से होती रही । ग्रेगोरी के कैलेण्डर को सन्1752 में ब्रिटेन ने अपनाया तो 25 मार्च की तिथि को 11 दिन बढ़ा कर 5 अप्रेल करना पड़ा । तब से करों की गणना 5 अप्रेल से होने लगी ।

सन्1800 ई. में एक भूल यह हुई कि इस वर्ष को लीप ईयर मानकर फरवरी 29 दिन का कर दिया गया था । इस भूल को सुधारने के लिए 1 दिन कैलेण्डर में से फिर निकालना पड़ा । फलस्वरूप 5 अप्रेल की तिथि 6 अप्रेल हो गई । ब्रिटेन में अभी भी करों की गणना 6 अप्रेल से की जाती है किंतु अधिकांश देशों ने 6 अप्रेल के स्थान पर निकटतम और सुविधाजनक तिथि 1 अप्रेल को चुना । यही कारण है कि हमारे देश में भी करों की गणना 1 अप्रेल से की जाती है और इसीलिए वित्तीय वर्ष भी 1 अप्रेल से 31 मार्च तक माना जाता है ।

ग्रेगोरियन कैलेण्डर का उपयोग आज अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर होता है किंतु यह अभी भी पूर्ण रूप से त्रुटिहीन नहीं है । गणितज्ञों के अनुसार ग्रेगोरियन कैलेण्डर के औसत वर्षमान और सौर वर्षमान में 27 सेकंड का अंतर है । यह अंतर 3236 वर्षों में 1 दिन का और 32360 वर्षों में 10 दिनों का हो जाएगा । इस प्रकार हज़ारों वर्षों बाद ऋतुओं और महीनों का क्रम असंगत होने लगेगा । कम्प्यूटर विशेषज्ञों ने ग्रेगोरियन कैलेण्डर सहित विश्व के किसी भी कैलेण्डर पद्धति को अनुपयुक्त माना है । उन्होंने काल गणना के लिए अपना एक अलग मानक ‘रेटा डाइ’ का प्रयोग प्रारंभ कर दिया है ।


   -महेन्द्र वर्मा

4 comments:

ब्लॉग बुलेटिन said...

ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सब को नव वर्ष के अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएं|

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, भारतीय गणितज्ञ और भौतिक शास्त्री सत्येन्द्रनाथ बोस की १२४ वीं जयंती “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

JEEWANTIPS said...

उत्कृष्ट व प्रशंसनीय प्रस्तुति........
नववर्ष 2018 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।सादर...!

Bharat Bhushan said...

जानकारी पूर्ण आलेख. आपका आभार महेंद्र जी.

Amrita Tanmay said...

रोचक सफर ।